Hindi story- अपनी बेटियाँ read this story of father and daughter love

Hindi  story - अपनी बेटियों 

story in hindi motiv & Funny inspirational stories with morals.

story in hindi true motivational stories. 

आजकल लड़कियों को जॉब्स और करियर की वजह से अकेले सफर करना पड़ता है और इस दौरान कभी कभी परेशानी का सामना भी करना पड़ता है। एक वाक्य मैंने देखा। इसको कैसे समझाए, वह वाक्य अच्छी तरह याद है हम ट्रेन में सफर कर रहे थे हम जिस कंपार्टमेंट में थे वहां जायदा परिवार वाली ही थे।

तभी एक लड़की हमारे सीट पर आकर बैठ गई बात चली तो उसने बताया कि उसका नाम रागिनी है हमसे अच्छे से हिल मिल गई रागिनी भी हमारी तरह मुंबई ही जा रही थी, सो उसका भी रात भर का सफर था।

दिन तो बातचीत में बीत गया जैसे ही रात हुई सब अपनी सीट खोल के सोने की तैयारी करने लगे रागनी को अपनी सीट पर जाना पड़ा हम लोग भी सो गए आधी रात को मुझे अपने पैरों के पास कोई बैठा हुआ लगा, मैंने देखा रागनी बैठी थी और वह रो रही थी।

story in hindi for kids Inspirational stories of success.

मैंने पूछा, क्या हुआ ? रागिनी ने बताया वहां जो अंकल लोग बैठे हैं वह शराब पी रहे हैं और अनर्गल बातें कर रहे हैं। मुझे डर लगा तो मैं आपके पास आ गई।

क्या मैं यहां बैठ सकती हूं ? मैंने अपने पति को उठाया और सारी बात बताई तो उन्होंने कहा ठीक है बेटी तुम यहां मेरी सीट पर सो जाओ मैं वहां जाकर सो जाता हूं ऐसे बैठे-बैठे रात कैसे निकालोगी। उस वक्त मैंने सोचा कि इस तरह से जाने कितनी बच्चियों को मुश्किलें झेलनी पड़ती होगी।

आप और हम समाज में बदलाव तो नहीं ला सकती पर उन अधेड़ उम्र के लोगों को मैसेज दे सकती हैं कि जरा सोचें कि उनकी बेटियां भी तो सफर करती होगी। कभी उनके साथ ऐसा मसला सामने आए तो...?

story in hindi Inspiring short stories on positive attitude.

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां