Hindi kahani- आत्मनिर्भरता पर कहानी moral story in hindi panchtantra

Hindi kahani-आत्मनिर्भरता

motivational moral a stories for student & kids.

moral motivational stories in english    moral motivational short stories & images    motivational moral a stories for student & kids
Motivational story 
moral story in hindi story for kids

बात छोटी-सी है, पर बड़े काम की है। मेरे बेटे ने जब स्कूल शूज़ अपने हाथों से पहनना शुरू किए तो मेरे पति देव उसे अक्सर टोकते, 'अरे! कितनी ढीली-ढाली लेस बांधी है लाओ मैं पहना देता हूं, तुम्हें तो ठीक से लेस बांधना ही नहीं आती।'

जब मैं टोकती कि उसे करने दीजिए तो कहते, 'अरे! बच्चा है, सीख जाएगा।' नतीजा यह हुआ कि पहले वह आड़ी-तिरछी लेस बांधने की कोशिश करता था, अब बिल्कुल नहीं करता। केवल कुर्सी पर बैठ जाता है और मेरे पतिदेव ही उसे लेस बांधकर देते हैं। 

moral story for kids in hindi 

बेटे के मन में यह बात घर कर गई कि मुझे तो लेस बांधना आती ही नहीं, मुझसे नहीं होगा। एक बार जब हम लोग बाइक से जा रहे थे तो मैं उन्हें बराबर टोक रही थी, 'धीरे चलाइए, इधर की साइड से मोड़ना था न, ब्रेक लगाइए।

रास्ते में तो ये कुछ नहीं बोले, लेकिन घर आकर बड़ा नाराज हुए बोले, 'अरे, मुझे पता है कैसे गाड़ी चलानी है बार-बार टोकने से मेरा आत्मविश्वास कम हो रहा था।' मैंने कहा, 'ठीक उसी तरह-बच्चे को भी पता होता है कि कैसे काम करना है, कैसे लेस बांधनी है, कैसे कपड़े इस्त्री करने हैं।

moral story in hindi for education

यदि हम उन्हें लगातार टोकते रहेंगे तो उसका आत्मविश्वास कैसे बढ़ेगा, कभी सोचा आपने वह काम बिगड़ने के डर से काम सीखना ही बंद कर देता है।' मेरी बात पतिदेव समझ चुके थे। हम हर काम में बच्चे से बिल्कुल 'परफेक्शन' की उम्मीद करते हैं। ऐसा करने से बच्चे का आत्मविश्वास कम होता जाता है। 

moral motivational a stories for students.

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां